होली क्यों मनाई जाती हैं , होली मानाने की पुराणी कथा

नमस्कार दोस्तों भारत एक त्योहारों का देश माना जाता है और इस देश में अनेक त्यौहार मनाए जाते हैं हम भारत में हर दिन किसी न किसी त्योहार के रूप में मनाते हैं और दुनिया में सबसे ज्यादा त्यौहार भारत में मनाया जाता है तो आज हम आपको बताने वाले हैं कि हम भारत में होली का त्यौहार क्यों मनाते हैं और इसके पीछे मनाने का क्या कारण है आज के इस पोस्ट में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि होली क्यों मनाते हैं और इसकी बनाने की विधि क्या है तो सबसे पहले तुम जान लेते हैं भारत में 2020 में होली कब है और इसको किस दिन और किस तारीख को मनाया जाएगा तो सबसे पहले हम यह जान लेते हैं

Holi 2020

इस बार होली 9 मार्च 2020 को मनाई जाएगी इस बार होली में आपको क्या-क्या तैयारियां करनी चाहिए होली कैसे मनाते हैं होली रंगों का त्योहार होता है और इसमें लोग रंगों के द्वारा खेलते हैं इस बार आप होली में क्या स्पेशल कर सकते हो आज यह हम बताने वाले हैं तो आपसे रिक्वेस्ट रहेगी कि आप इस पोस्ट को शुरू से लेकर लास्ट तक जरूर पढ़े ताकि आप लोगों को पता चल सके इस बार होली में क्या आप स्पेशल कर सकते हो तो इस बार होली 9 मार्च 2020 को मनाई जाएगी और कुछ जगहों पर 10 मार्च 2020 को भी मनाई जाएगी लेकिन राजस्थान और भारत के बहुत ज्यादा स्टेट में होली 9 मार्च 2020 को ही मनाई जाएगी भारतीय सा इकलौता देश है जिसमें होली का फेस्टिवल मनाया जाता है बाकी किसी भी देश में होली का फेस्टिवल नहीं मनाया जाता है होली का फेस्टिवल भारत में क्यों मनाया जाता है यह हम आपको आज बताने वाले हैं और इस पोस्ट को आप अंत तक पढ़ेंगे तो आपको लास्ट में यह भी बताया जाएगा कैसे आप इस होली में एक्स्ट्रा कर सकते हो और अपनी होली का ज्यादा से ज्यादा मजा ले सकते हो तो सबसे पहले तो आप लोगों को हैप्पी होली 2020 और आज के इस पोस्ट में हम अभी बात करते हैं कि होली क्यों मनाई जाती है

होली क्यो मनाई जाती है?

होली क्यों मनाई जाती हैं

होली क्यों मनाई जाती हैं

होली क्यों मनाई जाती है यह क्वेश्चन हर बार किया जाता है और इसका सभी को एक ही जवाब मिलता है कि होली क्यों मनाई जाती है और सब इससे सहमति रखते हैं होली क्यों मनाई जाती है इसके पीछे ना ही किसी के मतभेद है और ना ही किसी के कोई भी आशंका है सब एक ही कारण बताते हैं होलिका मनाने का और वह कारण है कि जब हिरण्यकश्यप की बहन ने उसके पुत्र को अपनी गोद में लेकर अग्नि में बैठकर उसको जलाने का वेतन किया था लेकिन भगवान श्री कृष्ण की शक्ति से प्रह्लाद भगत को कुछ नहीं हुआ और हिरण्यकश्यप की बहन जिसका नाम होलिका था वह उस अग्नि में चल कर भस्म हो गई तो तब से लेकर आज तक बुरे लोगों पर अच्छे लोगों की जीत पर होलिका दहन किया जाता है क्योंकि हिरण्यकश्यप की बहन का नाम को लिखा था और इसीलिए इस त्यौहार का नाम होली का रखा गया यह एक भगवान श्री कृष्ण का चमत्कार था जिसको लोग होली के रूप में मनाते हैं और इसका नाम होलिका इसलिए रखा गया क्योंकि हिरण्यकश्यप की बहन का नाम होली का था जो प्रह्लाद भगत को अपनी गोद में लेकर अग्नि में प्रवेश करी थी लेकिन वह यह नहीं जानते थे की प्रह्लाद भगत के ऊपर भगवान विष्णु का हाथ है और उसको कुछ नहीं होगा वही ऐसा जब अग्नि में प्रह्लाद भगत को लेकर बैठी तब प्रह्लाद भक्त को कुछ नहीं हुआ और जो हिरण्यकश्यप की बहन की होली का उसका उसी अग्नि में दहन हो गया और तभी से होलिका दहन किया जाता है

होली मनाने की पूरी कहानी

अगर इसकी हम आपको पूरी कहानी बताएं तो आपको पता चलेगा की होली क्यों मनाई जाती हैं इस प्रकार होगी किरण कश्यप नाम का एक राजा रहता था उसका एक पुत्र था जिसका नाम प्रहलाद था वह जन्म से ही भगवान विष्णु का भगत था जब वह है थोड़ा थोड़ा बड़ा होने लगा तो वह अपनी भक्ति को और आगे बढ़ाने लगा और वह रात दिन भगवान विष्णु की आराधना करता था और उनको अपना स्वामी मानता था लेकिन उसके पिता हिरना कश्यप इस बात से खुश नहीं थे और वह कहते थे कि वह विष्णु का नाम लेना छोड़ दे क्योंकि विष्णु कोई भगवान नहीं है और हिरना कश्यप अपने आप को विष्णु से बड़ा समझते थे और खुद को ही भगवान का दर्जा देते थे लेकिन पलाद भगत ने अपने पिता हिरना कश्यप की बात को नहीं सुना और भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहने लगा तो इससे चिंतित हिरना कश्यप ने उपाय किया कि जो मेरी बात नहीं मानता है मैं उसको दंड देता हूं चाहे वह मेरा पुत्री क्यों ना हो तो उसने प्रह्लाद भगत को काफी प्रताड़ना एक दी जिससे कि वह भगवान की भक्ति करना छोड़ दें जैसे उसको गरम तेल में डाला गया और गरम सीढ़ियों से उसको लिफ्ट आया गया लेकिन भगवान विष्णु का उस पर हाथ था तो बेड़ा कसक्की सारे प्रताड़ना प्रह्लाद भगत को कोई भी नुकसान नहीं पहुंचा सके और इससे प्रह्लाद भगत का आत्मविश्वास और बढ़ गया और उसको अपने भगवान पर ज्यादा भरोसा होने लगा और वह अपनी भक्ति को ज्यादा अच्छे तरीके से करने लगा इससे प्रहलाद भगत की पिता को ज्यादा क्रोध आया और उसने प्रह्लाद भगत को खत्म करने का प्रयत्न किया उसने अपनी बहन जिसका नाम होली का था उसको अपनी गोद में प्रह्लाद भक्त को लेकर अग्नि में प्रवेश करने के लिए कहा उसने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि उसकी जो बहन है होली का उसको भगवान ब्रह्मा जी से यह वरदान मिला था की उसको अग्नि नहीं जला सकते हैं तो इसीलिए हिरण्यकश्यप ने कहा इस को अपनी गोद में लेकर अग्नि में प्रवेश कर जाओ तो जैसा कि माना गया है कि हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने अपने भाई की बात मानकर विष्णु के भगत पहलाद को अपनी गोद में लेकर अग्नि में प्रवेश कर लिया लेकिन भगवान विष्णु के भगत पहलाद को जैसे ही उसने अग्नि में प्रवेश किया तो उसका जो वरदान था वह विफल हो गया जैसा कि ब्रह्मा जी ने उसको वरदान देते वक्त कहा था कि अगर तुम कोई भी गलत काम करती हो तो उसी वक्त तुम्हारा वरदान नष्ट हो जाएगा तो जैसे ही होलिका प्रह्लाद भगत को अपनी गोद में लेकर अग्नि में प्रवेश करती है तो भगवान विष्णु की सहायता से पहलाद भगत को कोई भी प्रकार की हानि नहीं होती है लेकिन हिरण्यकश्यप की बहन होलिका उस अग्नि में जलकर भस्म हो जाती है विद्वानों का मानना है कि उसी दिन से होलिका दहन की परंपरा शुरू हुई हर शहर होलिका दहन किया जाता है और इसका बड़ा नाम होली के रूप में मनाया जाता है यह भगवान की भक्ति करने वालों की जीत पर बुराई को जलाने की परंपरा के अनुसार होलिका दहन किया जाता है और होली का त्योहार मनाया जाता है यह ठीक पूरी कहानी होली मनाने की पीछे की उम्मीद है कि आपको यह कहानी पढ़ कर मजा आया होगा।

होली क्यों है रंगों का त्योहार

दोस्तों आपको पता होगा कि होली के दूसरे दिन या फिर होली के दिन हम पर रंग लगा कर एक दूसरे को होली की हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं इसीलिए होली को रंगों का त्योहार भी कहा जाता है इसके पीछे विद्वानों का कहना है कि यह एक प्रकार की जीत पर खुशी की लहर है जो कि लोग रंग के द्वारा एक दूसरे को बधाई देते हैं कुछ विद्वानों का यह भी कहना है कि यह भगवान कृष्ण के समय से चली आ रही है जब उन्होंने अपने वालों के संग और राधा जी के साथ रंगों के साथ और जल के साथ पिच कार्यों से रास रचाए थे उसी को लेकर आज तक होली के दूसरे दिन जो पानी की भरी पिचकारी ओं से एक दूसरे पर रंग डालकर या फिर हाथों में कलर लेकर एक दूसरे को लगाकर होली की शुभकामनाएं देते हैं या फिर मजा लेते हैं तो यह थी रंग लगाने की परंपरा हो सकता है कि आपको दूसरी वेबसाइट पर अलग तरीके की कहानी मिले तो इसमें विद्वानों में मतभेद है।

होली क्यों मनाई जाती हैं

होली क्यों मनाई जाती हैं

Holi Special Tips

अब हम आपको यह बताते हैं कि आप इस होली पर सबसे खास अलग क्या कर सकते हैं जो कोई नहीं करता है दोस्तों आपको पता होगा भारत एक कृषि प्रधान देश है और इसमें अनेक प्रकार के लोग पाए जाते हैं और अनेक प्रकार की जातियां पाई जाती है इसमें आपको हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सभी पाए जाते हैं और होली जो फेस्टिवल है वह सिर्फ हिंदू वेद पुराण में मनाया जाता है यानी कि हम हिंदू लोग होली के त्योहार को मनाते हैं जैसे दीपावली और अन्य त्योहार को हम मनाते हैं वैसे ही होली को हम केवल हिंदू बनाते हैं लेकिन होली एक ऐसा फेस्टिवल है जिसको सभी को मनाना चाहिए तो आप इसमें अपने जो आसपास अन्य कास्ट है उसको अवश्य होली खेलने के लिए आमंत्रित करें जैसे मुसलमान हो गए तो इससे क्या होगा आपके बीच का जो देश में भाईचारा है वह बढ़ेगा और इसमें हमारे देश का विकास अच्छे तरीके से होगा जब भाईचारा बढ़ेगा तो देश में कोई भी प्रकार का गृह युद्ध नहीं होगा तो आप अपने आस-पड़ोस के ईसाई मुसलमान उनको साथ लेकर होली का त्यौहार बनाएं जिससे लोगों में प्रेरणा होगी कि हम भारतीय भाई भाई हैं कोई हमें अलग नहीं कर सकता है तो यह आप करेंगे तो सबसे अलग होगा अपने मुस्लिम मुस्लिम भाइयों को होली मनाने के लिए प्रेरित कीजिए ताकि उनमें भाईचारे की भावना हो और आपने भी भाईचारे की भावना पड़े और इससे देश में भाईचारा बना रहे तो यह आप होली पर स्पेशल कर सकते हो। Click here

Global Friendly Holi

होली क्यों मनाई जाती हैं

होली क्यों मनाई जाती हैं

एक हम आपको सबसे इंपोर्टेंट बात बता देते हैं कि इस होली पर आप कम से कम पानी का इस्तेमाल करें ताकि हमारे देश में जो पानी की किल्लत है वह और ना भरे आपको पता होगा बहुत सारे राज्य ऐसे हैं जहां पर लोगों को पीने के लिए पानी के लिए दो 2 किलोमीटर जाना पड़ता है तो आप समझ सकते हो कि होली पर हम कितने पानी को वेस्ट करते हैं रंगों में घोलकर तो कम से कम पानी का इस्तेमाल करें हो सके वहां तक पानी का यूज ना करें कच्चे रंगों का यूज़ करें ताकि जिसको भी आप रंग लगाए उसको यह रंग उतारने के लिए ज्यादा पानी खर्च ना करना पड़े क्योंकि पानी हमारे देश की सबसे बड़ी समस्या उभर कर आ रही है तो आप एक ग्लोबल फ्रेंडली होली मनाए जिससे कि लोगों में प्रेरणा होगी और लोग जिम्मेदार बनेंगे तो मीत करता हूं कि इस पोस्ट से आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा और आप एक अच्छी वाली मना पाएंगे तो मिलते हैं किसी ने वीडियो में वंदे मातरम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Festivale Wishes © 2019 About Us | Wish-Magic